उत्तर प्रदेशउत्तराखंडकानपुरगाज़ियाबाददिल्लीदेहरादूननई दिल्लीमेरठविदेश

बगैर किसी व्यवधान के पासपोर्ट घर बैठे लोगों को मिले,इसके लिए स्टाफ का दक्ष होना आवश्यकःअनुज स्वरूप

  • -आने वाले वक्त में विदेश मंत्रालय लांच करेंगा नई तकनीक
  • -नई तकनीक से घबराने की जरूरत नहीं
  • -महाराजपुर स्थित कार्यालय में आयोजित किया गया प्रशिक्षण कार्यक्रम

मनस्वी वाणी संवाददाता
गाजियाबाद। पासपोर्ट सुविधा को अधिक बेहतर बनाए रखने के लिए समय समय पर प्रशिक्षण आवश्यक है। इसमंे भी पासपोर्ट की सुविधा को विदेश मंत्रालय के द्वारा आधुनिकरूप देने की दिशा में आरंभ किए जा रहे प्रोजेक्ट का समय रहते दिए जाने के लिए इस तरह के कार्यक्रम जरूरी है। लोगांे को पासपोर्ट की बेहतर सुविधा मिलना तभी संभव है,जब इस पूरे कार्यक्रम से जुडा स्टाफ दक्ष हो। ये तमाम बातें पासपोर्ट अधिकारी अनुज स्वरूप ने महाराजपुर में स्थित पासपोर्ट कार्यालय में आयोजित सेमिनार के दौरान कहीं।

उन्होंने प्रशिक्षण कार्यक्रम में पहुंचे लोगों को जोर दिया कि पूरे कार्यक्रम को लेकर जो भी जिज्ञासाएं है,उनकी विस्तार से जानकारी हासिल जाए। तभी जो किन्हीं कारणों से पासपोर्ट के आवेदन लंबित रहते है,उनकी संख्या मंें कमी लायी जा सकें। उन्होंने कहा कि गाजियाबाद क्षेत्र के अंतर्गत 13 क्षेत्र आते है। उन्हांेने उदाहरण देते हुए कहा कि सहारनपुर की दूरी गाजियाबाद से साढे तीन सौ किलो मीटर है। सहारनपुर के लोगों के गाजियाबाद आने के दौरान न केवल समय लगता था,बल्कि खर्चा भी होता था,लेकिन सहारनपुर में ही व्यवस्था किए जाने के परिणाम स्वरूप आवेदकों को राहत मिली है। इसी तरह की सुविधा शामली एवं हापुड में भी आरंभ करने की तैयारी की जा रही है। विदेश मंत्रालय का प्रयास ये है कि व्यवस्था पूरी तरह से पारदर्शी हो। उन्होंने कहा कि यू तो साइबर कैफंे के माध्यम से पासपोर्ट के आवेदन की व्यवस्था दी गई है,लेकिन कई बार साइबर कैफे के संचालकों के द्वारा गलती कर दी जाती है,नतीजा ये होता है कि पासपोर्ट लंबित हो जाता है। मेरठ के बाद बागपत में भी सहारनपुर की भांति व्यवस्था आरंभ की गई है।

शामली में भी जल्द शुरू की जाएगी सेंटर की व्यवस्था पासपोर्ट अधिकारी अनुज स्वरूप ने खासबातचीत के दौरान कहा कि शामली मंें भी जल्द पासपोर्ट सेंटर की सुविधा आरंभ की जाएगी। इसके लिए सर्वे कर लिया गया है। उम्मीद ये है कि अगले तीन माह के दौरान पासपोर्ट संेटर आरंभ कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि गाजियबाद के अंतर्गत आने वाले 13 मंे से 11 स्थानों पर डाक विभाग की बिल्डिंग में पासपोर्ट सेंटर संचालित किए जा रहे है। जिन्हें पोस्ट आफिस पासपोर्ट सेवा केंद्र नाम दिया गया है। डाक विभाग के द्वारा ही अपना स्टाफ तथा संसाधन भी उपलब्ध कराया गया है।  नोएडा में अवश्य विभाग का स्टाफ सेंटर पर बैठता है। हापुड मंें भी सेंटर आरंभ करने की योजना है। उन्होंने कहा कि सेंटर आरंभ करने का उददेश्य छोटी से छोटी खामी के चलते पासपोर्ट लंबित रहने की संख्या को दूर किया जाना है। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button