उत्तर प्रदेशगाज़ियाबादनई दिल्ली

वेव सिटी टाउनशिप में व्यवस्था फेल


रेजिडेंस पर भारी पड़ रहे सुरक्षाकर्मआए दिन मामले आते हैं प्रकाश में
स्थानीय रेजिडेंस सुरक्षा के नाम पर परेशान
मनस्वी वाणी, संवाददाता
गाजियाबाद। वेव सिटी टाउनशिप की जमीन इस समय सोना उगल रही हैं, इसमें कोई शक नहीं है। मगर नाम बड़े और दर्शन छोटे के नाम पर चल रहा है वेव सिटी में कार्य। थाना बनने के बाद प्लॉटों के दामों में काफी वृद्धि के साथ-साथ फ्लैट भी मोटी रकम के साथ बिक रहे है। हालांकि पब्लिक भी अपनी आमदनी अनुसार प्लॉट और फ्लैट खरीद रही है। लेकिन वेव सिटी ग्रुप कितने भी दावे सुरक्षा व्यवस्था को लेकर कर ले लेकिन जमीन पर हकीकत कुछ और ही बयां कर रही है। जो इस ग्रुप पर प्रश्नचिन्ह भी लगा रही है। हालांकि सुरक्षा के नाम पर क्यूआरटी घूमती नजर आती जरूर है। लेकिन सोसाइटी के गेट पर खड़े सुरक्षाकर्मी गलत लोगों पर कम रेजिडेंस पर रॉब ज्यादा छाड़ते है। अगर कोई विरोध करता हैं तो उसके साथ मारपीट पर भी उतारू हो जाते है। अब लोगों में इस बात को लेकर भय भी है कि इतने बड़े बिल्डर और सुरक्षाकर्मियों से आखिर पंगा कौन लेगा।
ऐसा ही एक मामला बुधवार को भी प्रकाश में आया। जब एक रेजिडेंस अपने एक फ्लैट से अपना सामान दूसरे फ्लैट में ले जाने लगा तो सुरक्षा कर्मियों ने उससे सही से पूछताछ करने की बजाए ऐसा व्यवहार किया जैसे वह चोर है। जब पीड़ित रेजिडेंस ने उनसे सम्मानजनक शब्द बोलने की बात कहीं तो मौजूद सुरक्षकर्मी उखड़ गए और हंगामा करने लगे। जिसके बाद मौके पर दूसरे रेजिडेंस भी आ गए, उन्होंने भी सुरक्षकर्मी के व्यवहार की निंदा की। अब रेजिडेंस इस बात को लेकर परेशान है कि जिनकी सैलरी के पैसे वह खुद मेंटिनेस के रूप में दे रहे है वहीं लोग उनसे अभद्रता कर रहे है। जबकि अगर कोई सुरक्षा में सेंध लगाता है तो सुरक्षाकर्मी के पास कोई जवाब नहीं बनता है। हालांकि मामला बहस बाजी तक ही सीमित रहता है। लेकिन इससे रेजिडेंस में आक्रोश है।
महिला सुरक्षाकर्मी को करते हैं आगे
एक ट्रेंड और चल रहा है पुरुष सुरक्षा कर्मी महिला सुरक्षाकर्मी को आगे कर देते हैं। ऐसे नहीं है कि वेव सिटी में पुरूष सुरक्षाकर्मी नहीं है, लेकिन जैसे ही रेजिडेंस के साथ अभद्रता सुरक्षाकर्मियों द्वारा की जाती है। तो उस पूरे प्रकरण में पुरूष सुरक्षकर्मी पिछे हट जाते है और उनकी सहकर्मी महिला सुरक्षाकर्मी मोर्चा संभाल लेती है और रेजिडेंस को भला बुरा कहती है। जब उनकी शिकायत उनके अधिकारियों से की जाती है तो महिला कह कर पल्ला झाड़ लिया जाता है। वेव सिटी के सेक्टर पांच में स्थित वुड एंक्लेव के गेट पर तैनात महिला सुरक्षा कर्मी की अभद्रता से लोग परेशान है। रेजिडेंस का कहना है कि हम लोग यहां पर रहते है, यह लोग हमारी सुरक्षा के लिए तैनात हैं न कि हम लोगों से अभद्रता करने के लिए। अभी तो बहस बाजी तक मामला निपट गया। लेकिन किसी दिन यह मारपीट में बदल गया तो कौन इसका जिम्मेदार होगा।
सुरक्षाकर्मियों के नाम पर भी खेला
ड्रीम होम्स और एक्जीक्यूटिव फ्लोर में सुरक्षकर्मी आपने कार्य में निपुण है। उनकी बॉडी लैंगवेज से पता लगता है कि यह सही मायने में सुरक्षकर्मी है। उन्हें इस बात का सही से ज्ञान भी है। लेकिन अलग-अलग सेक्टरों में बैठे सुरक्षकर्मियों में ज्ञान का आभाव साफ नजर आता है। कंपनी ने ऐसे लोगों को भर्ती कर लिया है। जिन्हें बात करने का पता नहीं होता है। अगर उनसे कोई जानकारी मांगों तो उस पर अंजान बने रहते है। बस अपने पास डंडा रखकर खुद को पुलिसकर्मी समझते है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button